भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल हो के / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

       फूल हो के

टहनियों की छातियाँ उठने लगी हैं
गीत मेरे
अब न खा जाना कहीं धोखे
        फूल हो के

रंग आये हैं
लुभाने पाँव लेकर
जिस तरह
मल्लाह आये नाव लेकर

        (इन्द्रधनु वातावरण में
         खो न जाना फूल हो के)

गीत मेरे
बड़ी मुश्किल से तुम्हें
मोड़ा गया धूप ढो के