भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फोटूग्राफर / सूर्यभानु गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं फोटूग्राफर मस्ताना!
हाथ और मुँह
धोकर आए,
जिसको हो फोटू खिंचवाना!
मैं फोटूग्राफर मस्ताना!

बंदर भालू, गोभी, आलू
शेर, फूल, जंगल की बढ़िया
तस्वीरें फिल्मों की चालू,
ब्याह-शादियों में मुझको ही-
सभी चाहते हैं बुलवाना!
मैं फोटूग्राफर मस्ताना!

लंबू-छोटू, पतलू, मोटू
याद नहीं कितने लोगों के
खींच चुका मैं अब तक फोटू,
रोते चेहरों को सिखलाया-
मैंने फोटू में मुसकाना!
मैं फोटुग्राफर मस्ताना!