भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ्रिजिड प्यारु / ब्रज मोहन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तूं वधीक पै्रक्टीकल निकितींअ
तो चयो पहिरीं शादी पोई प्यारु
मूं चयो-सिर्फ़ प्यारु।
तो चयो-घरु ऐं ॿार औरत जी
बाइलॉजीकल घुरिज।
मूं चयो-न खपे।
तूं नाराज़ थी वईंअ
तोखे पाइण लाइ
मूंसभु कुझु जोड़े वरतो-
फ़लैट,
रेफ्रीजीरेटर,
टेलीफ़ोन
टेलीविज़न,
कार।
दोस्तनि चयो ”ब“ तमाम सुखी आहे
पै्रक्टीकल निकितो
हरामी वॾियूं वॾियूं ॻाल्हियूं कन्दो हो-
तोखे याद आयो प्यारु
मूं चयो-अचु त ॻोल्हियूं।
असांजो प्यारु
रेफ्रीजीरेटर में
फ्रिज्डि थियो पियो हो।