भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदर ने खोला सैलून / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बंदर ने खोला सैलून,
नाम रखा है अफलातून!

बढ़िया कुर्सी-मेज मँगाया,
नया उस्तरा वहीं सजाया,
जापड़ोस से शीशा माँगा
ऊपर अपना फोटो टाँगा।

रोब जमाने को पब्लिक पर
लगवाया एक टेलीफोन!

बाल काटना सीख न पाए
फिर तो बंदर जी घबराए,
हुलिया जिसका खूब बिगाड़ा,
गाहक उन पर वही दहाड़ा।

आखिर झंझट छोड़-छाड़कर
भाग गए वे देहरादून।