भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदर मामा / संतोष कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बंदर मामा बी.ए. पास,
दुलहिन लाए एम.ए. पास
मामा बोले-‘घूँघट कर’,
मामी बोली-‘मुझसे डर’।
मैं लड़की हूँ एम.ए. पास,
मैंने खोदी नहीं है घास।
फिल्म देखने जाऊँगी,
आकर गीत सुनाऊँगी।
रोटी नहीं बनाऊँगी,
जा होटल में खाऊँगी।
बंदर बोला-‘क्यों-क्यों-क्यों’,
बंदरी बोली-‘खों-खों-खों।’