भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदर सभा / पुरुषोत्तमदास टंडन 'राजर्षि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हियाँ की बातें हियनै रह गईं, अब आगे के सुनौ हवाल,
गढ़ बंदर के देश बीच माँ पड़ा रहा एक खेत विशाल!

सौ जोजन लंबा अरु चौड़ा, अरबन बानर जाय समाय,
तामें बानर भये इकट्ठा जौन बचे वे आवैं धाय!

जब सगिरा मैदनवा भरिगा, पूछें टोपी लगीं दिखाय,
सबके सब कुरसिन से उछले, हाथ-पाँव से ताल बजाय!

इतने माँ मल्लू-सा आए, बंदरी और मुसाहिब साथ,
बंदरी बड़ी चटक-चमकीली, थामे मल्लू-सा को हाथ!

ओढ़े गउन लगाए टोपी, हीरे जड़े पांत के पांत,
मटकत आवत, भाव दिखावत, आखिर मेहरारू की जात!

-साभार: प्रदीप, 1905