भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदा पिञिरो अथई पुराणो / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बंदा पिञिरो अथई पुराणो
तुंहिंजो पिञिरो अथई पुराणो

कूड़ कपट सां महिल अॾीं थो
तॾहिं बि केॾो तूं त कुॾीं थो
ख़बर न तोखे काई आहे
अची काल विझंदेइ मांधाणों

हीउ दुनिया ॾाढी कूड़ी आ
साईंअ जी सरकार वॾी आ
मतां पाण खे तूं भिटकाईं
करे छॾींदइ साणो

मालिक सां लिंव छो न ॻाईं
छो थो ऐशन में दिलि अटकाईं
सच जो वेही सौदो कर तूं
मञु मालिक जो मिठो भाणो