भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदूक चली / सभामोहन अवधिया 'स्वर्ण सहोदर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बंदूक चली, बंदूक चली!
चल गई सनासन, सन-सन-सन,
चल गई दनादन, दन-दन-दन।
जाने किस पर, किस जगह चली,
बंदूक चली, बंदूक चली!
धड़-धड़ धड़ाम आई आवाज,
मानो कि भरभरा गिरी गाज
गूँजा स्वर घर-घर, गली-गली
बंदूक चली, बंदूक चली!
लड़की भड़की, लड़का भड़का,
दादी का दिल धड़-धड़ धड़का।
सहमी बेचारी रामकली,
बंदूक चली, बंदूक चली!

-साभार: बाल साहित्य समीक्षा, 1980 स्वर्ण सहोदर विशेषांक, सं. ‘राष्ट्रबंधु’