भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बक रहा हूँ आज कल हिज़यान बाक़ी ख़ैर है / सय्यद फहीमुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बक रहा हूँ आज कल हिज़यान बाक़ी ख़ैर है
और लाहक़ है ज़रा निस्यान बाक़ी ख़ैर है

कार मेरे यार की थी ओर फिर चोरी की थी
हो गया है चूक में चालान बाक़ी ख़ैर है

घास भी उगती नहीं है बाल भी उगते नहीं
बन गया है सर मिरा मैदान बाक़ी ख़ैर है

फ़िक्र की तो बात कोई भी नहीं है जान-ए-जाँ
घर में हैं बस दर्जनों मेहमान बाक़ी ख़ैर है

एक अर्सा हो गया है रात दिन थाने में हूँ
और छुटने का नहीं इम्कान बाक़ी ख़ैर है

जिस का बंगला देख कर घर-बार छोड़ा गया
वो तो यकसर हो गई अंजान बाक़ी ख़ैर है

बह रही है रात-भर से नाक सर में दर्द है
और कुछ सुनते नहीं है कान बाक़ी ख़ैर है

साल से सास मेरी डाकुओं की कै़द में
मांगते हैं वा बड़ा तावान बाक़ी ख़ैर है

है ज़रा ख़ारिख सी दादा-जान को लक़वा भी है
और हैं बीमार दादी-जान बाक़ी ख़ैर है

कल से है बच्ची को हैज़ा और बच्चे को बुख़ार
सब से छोटे को हुआ यरक़ान बाक़ी ख़ैर है

बात अब तशवीश की कोई नहीं ऐसी ‘फ़हीम’
दूर तक मिलता नहीं इंसानी बाक़ी ख़ैर है