भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बगत / हरि शंकर आचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घोर सरणाटै मांय पड़ी
उणरी लास
उडीकै
पंचभूतां सूं मिलण सारू।
पण
स्यात उण रो कोई कोनीं
जिण सूं कर सकै
उण री काया अरदास।
उण रै कानीं उठण वाळी
हर एक संवेदना
खिण भर री है।
अरे भाई!
बगत किण रै कनैं है?
हां,
चीलखा, कागला अर कुत्ता
जरूर बणासी
उणनैं आपरो भख।