भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बचपन की चाहत / पवन चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं अब जान चुका हूँ अंतर
ऊँचाई और गहराई में
झूठ और सच्चाई में
अपने और पराए में
आजादी और गुलामी में
पाप पुण्य में
जात पात में
काले गोरे में
बसंत और पतझड़ में
फूल और कांटे में भी

आज जान गया हूँ मैं
बहुत कुछ
अनुभव की भट्ठी की तपन का
मुझे एहसास है
आ गया है मुझे
टेढ़े-मेढे रास्तों पर सीधे चलना

पर फिर भी न जाने क्यों
लौट जाना चाहता हूँ मैं
उसी भूलभूलैया
उन्ही टेढे-मेढे रास्तों पर
अपनी खोयी मस्ती में
उसी तोतली बोली के
गुदगुदाते शब्दों में।