भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बज़्मे-ग़म ख़ूने-जिगर पे मिरे मेहमान थी रात / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बज़्मे-ग़म[1] ख़ूने-जिगर पे मिरे मेहमान थी रात
आहे-सरगर्म[2] मिरी शमए-शबिस्तान[3] थी रात

देखिए आज कि किस तरह से गुज़रे हम पर
दिन से महशर[4] के तो कल दस्तो-गरेबान[5] थी रात

क़तरे उस चेहरे पे शब यूँ थे अश्क के गोया
जाए-शबनम-ब-गुलिस्ताँ[6] गुहर-अफ़शान[7] थी रात

गुज़री पल मारते पे इस तरह कि जैसे शबे-वस्ल[8]
बेख़ुदी अपनी अजब बर-सरे-एहसान[9] थी रात

दिन तो नज़रों में शबे-क़ीर[10] था मेरी तुझ बिन
महफ़िले-शब[11] में ख़ुरशीदे-दरख़्वान[12] थी रात

क़ता:

होके मायूसे-शिफ़ा[13] शब ये कहे था 'सौदा'
शमए-बालीं[14] भी सुन इस हर्फ़ को गोयान थी[15] रात
लाख तदबीर तबीबों ने मिरी की अफ़सोस
दर्दे-हिजराँ[16] के लिए वस्ल के दरमान[17] थी रात

शब्दार्थ
  1. दुखों की महफ़िल
  2. गर्म आह
  3. शयनागार की शमा
  4. क़यामत
  5. हाथापाई कर रही थी
  6. क्यारी में फूलों का स्थान
  7. मोती बरसा रही थी
  8. मिलन की रात
  9. एहसान करने पर आमादा
  10. आंधेरी रात
  11. रात की महफ़िल
  12. दमकता सूरज
  13. इलाज से मायूस
  14. ताक़ की शमा
  15. बोल रही थी
  16. वियोग का दर्द
  17. दवा