भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ा ही कुरूप रूचिकर कनियो नै कहीं / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़ा ही कुरूप रूचिकर कनियो नै कहीं
घोॅर राखै जेना गाय गोरू के बथान छै।
रोग के सहाय हितु दुःख आ दरिद्रता के
ज्ञान-विज्ञान लेली संकट महान छै।
धोन आ धरम दै केॅ जियै के भरम लै केॅ
लाजौ के मरण दै केॅ पिन्है परिधान छै।
ऐहनो कुलच्छिनी के साथ दिन रात जियै
तेकरा सें सख्त यहाँ केकरो नै जान छै।