भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ा होने पर 2 / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं जैसे सुख से रहता हूँ,
वैसे रहें पड़ोसी जन।
कोई अति धनवान नहीं हो,
कोई हो न बहुत निर्धन।
कंट्रोलों का नाम नहीं हो ,
होवे चोर बजार नहीं।
कोई नंगा कोई भूखा,
हो कोई बेकार नहीं।
लालच या भय के पिंजड़े का,
कभी नहीं मैं कीर बनू।
हे भगवान बड़ा होने पर,
मैं जन सेवक वीर बनूँ।