भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ा / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई नहीं मानेगा
कि आकाश समा सकता है
दो आँखो में ।

कोई नहीं मानेगा
कि पाताल की गहराई है
हृदय के भीतर ।

यह एक पृथ्वी, कंधे से नीचे
फैलती हुई सीने पर
यक़ीन दिलाएगी,

मनुष्य बड़ा है
ब्रह्माण्ड से भी बड़ा ।