भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ी बुआ / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खाने को दो खीर कदम
खाने को दो मालपुआ,
खाने को देना पेड़े
माँग रही हैं बड़ी बुआ!
बड़ी बुआ ने खाया सब
बड़े पलँग पर बैठीं अब।
अब क्या लेंगी बड़ी बुआ,
शायद माँगेंगी हलुआ।