भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ी मुसीबत है / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर में सबसे छोटा होना
बड़ी मुसीबत है ।

अपने-अपने काम करा कर
बड़े डाँटते हैं
जब भी होता मन,
छोटों पर रौब गाठते हैं ।
हे भगवान ! तुम्हीं देखो न,
बड़ी मुसीबत है ।

देते हमको एक, माँगते
मुझसे पप्पी दस ।
दादजी की दाढ़ी चुभती
पर न करते बस ।
उनका हँसना, अपना रोना
बड़ी मुसीबत है ।