भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़े हुए गुड्डू / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोड़ के अम्माँ की गोदी-कैंयाँ ।
बड़े हुए गुड्डू, चलें पाँ-पाँ पैंयाँ ।

तीन चका की
लकड़ी की गाड़ी
लेकर घूमें
अगाड़ी-पिछाड़ी
पत्ते-सी काँपें दो छोटी-छोटी बैंयाँ ।

चलते-चलते पग
डगमग होवें,
ख़ुश होके किलकें,
रूठे तो रोवें,
घड़ी-घड़ी अम्मा लेवें बलैयाँ ।
बड़े हुए गुड्डू, चलें पाँ-पाँ पैंयाँ ।