भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बताव / सत्येन जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोझी करी रे भाइड़ा
      जावण पैला
   नीं दुवा, नीं सलाम
     किण नै दूं औळमौ बताव
    जाणूं
गयौ थूं भी खाली हाथ
पछै कुण लेयग्यौ म्हारौ
काळजौ काढ