भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बता बीनणी के बोलै ? / मानसिंह शेखावत 'मऊ'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तकतूळी सो बींद बिराजै, उडै बायरै कै झोलै !
बता बीनणी के बोलै ?

जाड़ दबायां जर्दो-गुटको, आतां ही बोतल खोलै !
बता बीनणी के बोलै ?

देवै ओळमो नणद-जिठाणी, सुसरोजी पूरो तोलै !
बता बीनणी के बोलै ?

पाड़ोसण सूं जे बतळाले, सासूजी छाती छोलै !
बता बीनणी के बोलै ?

पाणी पी पी गाळ काडरया, पीहरवाळा नैं ओलै!
बता बीनणी के बोलै ?

बाजोटां पै जान-जुहारी, मावा सूं मूंडो धो लै !
बता बीनणी के बोलै ?

गैणों-गूँठी गिरवै म्हेल्यो, जमीं बेच दी अधमोलै !
बता बीनणी के बोलै ?

महिलावां रो राज बतावै, पण आ तो मूँ ना खोलै !
बता बीनणी के बोलै ?

बात लाग'री जे झूँठी तो, आ म्हारै सागै हो लै !
बता बीनणी के बोलै ?