भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बता वीरन को देश बनदेवा / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बता वीरन को देश बनदेवा
नहीं दवड़ी नहीं कोण्डरी
बता बीरन को देस बनदेवा।।
मखज का पूदय मऽरीऽ बैन्दोली
अगल्या गायकी खऽ पूछऽ
गाय चरन्ता गायकी रे
बता मऽराऽ बीरनऽ को देस बनदेवा।।