भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बथुए की पत्ती, मूंगे जैसी बाल / जगदीश गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पौधों में उभरा
सीताओं का रूप
पछुआ के झोंकों से
हिल उठती धूप

बैंगनी-सफ़ेद बूटियों की हिलकोर
पीले फूलों वाली छींट सराबोर

ओस से सनी
चिकनी मिट्टी की गंध
पाँवों की फिसलन
बन जाती निर्बन्ध

शब्द-भरी नन्हीं चिड़ियों की बौछार
लहराकर तिर जाती आँखों के पार

मेड़ के किनारे
पगडंडी के पास
अनचाहे उग आती
अजब-अजब घास

इक्का-दुक्का उस हरियाली के बीच
कुतरती गिलहरी, फिर-फिर दानें खींच

पकने में होड़ किए
गेहूँ की बाल
बथुए की पत्ती
मूंगे जैसी लाल ।

बथुए की कच्ची पत्ती हरी होती है,पर पकने पर वह एकदम लाल हो जाती है ।