भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बदलना ही होगा मुझे / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू और तेरे देवता
नाप सकते हैं
तीन डग में
सारा ब्रह्माण्ड
और बना देते हैं
राजा से रंक
इस कथा का
ऐसा शौर्य बखान
और ऐसा कृत्य
सिर्फ तुम्हीं कर सकते हो
तीन डग में नपवा लेते हो
तीनों लोक
और छीनकर सब-कुछ
भेज देते हो पाताल
हमें डराने।

तेरे द्वारा छीनने, झपटने
और कारित हत्याओं की
ऐसी ही अनेक कथाएँ पाता हूँ
हर पन्ने पर
तुझे पढ़ते हुए
तू कभी बदलेगा
ऐसा लगा नहीं
बदलना
सिर्फ और सिर्फ
मुझे ही होगा...!