भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बदलाव / सत्यनारायण सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
बचपन में लिखे थे उसने
कुछ अपशब्द
दीवार की छाती पर ।

अब कई गुणा होकर
पसर गए हैं बरसों बाद

पोत देना चाहता है वह उन्हें
एक ही झटके में
एक साथ ।

बेटी जो
इसी गली से
स्कूल जाने-आने लगी है ।