भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बधाए आए अँगना लिपाए रखती रे / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बधाए आए अँगना लिपाए रखती रे॥-2
जो मैं ऐसो जानती, ससुरजी आयेँगे आज,
ससुरजी लिए, हुक्का मँगाए रखती रे। बधाए...
जो मैं ऐसो जानती, जेठजी आयेँगे आज,
जेठजी लिए चाय बनाए रखती रे।बधाए...
जो मैं ऐसो जानती देवर जी आयेँगे आज,
देवर जी लिए रंग मँगाए रखती रे।बधाए...
जो मैं ऐसो जानती, नंदेऊ आयेँगे आज,
नंदेऊ लिए पान मँगाए रखती रे। बधाए...
जो मैं ऐसो जानती राजाजी आयेँगे आज,
राजाजी लिए पलंग सजाए रखती रे। बधाए...