भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बधै मन / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन मुळकै
मन ढुळकै
मन री मार
मन जाणै
मिनख भंवै
भरम्योड़ौ
मन रा कोरिया
अदीठ चितरामां।

मंडै मिटै चितराम
नीं हटै
नीं मिटै चितराम
बधै मन!