भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बनारस-4 / निलय उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बनारस में
मणिकर्णिका और हरिश्चन्द्र घाट पर
क्यों जलाए जाते है हर साल
तैतीस हज़ार शव

क्या महज इसलिए
कि हर साल जलाई जाती रहे
जंगल की अड़तालीस हज़ार टन
लकडियाँ

क्या इसलिए
कि बहायी जाता रहे
चौबीस हज़ार टन राख
दो सौ पचास क्विण्टल भेसरा
गंगा के जल में

क्या इसलिए
कि खड़ा-खड़ा मुँह देखता रहे
बिजली का शवदाह-गृह और चलता रहे
जस का तस

कभी पूजाई के नाम पर
कभी कचराई के नाम पर
कभी सफ़ाई के नाम पर
कमाई का
कारोबार है गंगा
मोक्ष दे सके, दे सके मुर्दे को नया जन्म
दे सके देश को नए विचार, यह ताक़त
अब न तो गंगा में है,
न बनारस मे

बस
यही सच है कि
कि यह मिथको के टूटने का समय है
और यहाँ सदियो से जल रही है
धूनी
मसान की