भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बना-बननी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मीना जडी बिंदी लेता आवजो जी, बना पैली पेसेंजर सी आवजो जी।
आवजो आवजो आवजो जी बना पैली पेसेंजर सी आवजो जी।
माथ सारु बीदी लाव्जो माथ सारु टीको,
माथ सारु झूमर लेता आवजो जी बना पैली पेसेंजर सी आवजो जी।
गल सारु हार लाव्जो गल सारु नेकलेस,
गल सारु पेंडिल लेता आवजो जी, बना पैली पेसेंजेर सी आवजो जी।
हाथ सारु चूड़ी लाव्जो हाथ सारू कंगन,
हाथ सारु बाजूबंद लेता आवजो जी बना पैली पेसेंजेर सी आवजो जी
पांय सारु चम्पक लाव्जो, पांय सारु बिछिया,
पांय सारु मेहँदी लेता आवजो जी बना पैली पेसेंजर सी आवजो जी।
अंग सारु साडी लाव्जो, अंग सारु पैठनी,
अंग सारु चुनार्ड लेता आवजो जी बना पैली पेसेंजर सी आवजो जी।
आवजो आवजो जी बना पैली पेसेंजर सी आवजो जी।