भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बना के तोड़ती है दाएरे चराग़ की लौ / हनीफ़ कैफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बना के तोड़ती है दाएरे चराग़ की लौ
बहा के ले गई मुझ को कहाँ शुऊर की रौ

बना चुका हूँ अधूरे मुजस्समे कितने
कहाँ वो नक़्श जो तकमील-ए-फ़न का हो परतव

वो मोड़ मेरे सफ़र का है नुक़्ता-ए-आग़ाज़
फ़रेब-ख़ुर्दा-ए-मंज़िल हुए जहाँ रह-रौ

लरज़ते हैं मिरी महरूम-ए-ख़्वाब आँखों में
बिखर चुके हैं जो ख़्वाब उन के मुंतशिर परतव

भटक न जाऊँ मैं तश्कीक के अंधेरों में
लरज़ रही है मिरी शम-ए-एतक़ाद की लौ

शब-ए-दराज़ का है क़िस्सा मुख़्तसर ‘कैफ़ी’
हुई सहर के उजालों में गुम चराग़ की लौ