भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बना सोवइं अंटारी लगावा सखी / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बना सोक्इं अंटारी जगावा सखी
उनके मौरी मां लागी है अनार की कली कचनार की कली
अनार की कली
कचनार की कली
बेला फूल की कली
बना सोवइ अंटारी जगावा सखी
उनके कलंगी मां बनी है अनार पुतरी
अनार पुतरी
कचनार पुतरी
बेला फूल पुतरी
बना सोवइं अंटारी जगावा सखी
उनके कंगन का लगी है अनार की कली
अनार की कली
कचनार की कली
बेला फूल की कली
बना सोबइं अंटारी जगावा सखी
उनके जामा मा लगी है अनार की कली
अनार की कली
कचनार की कली
बेला फूल की कली
बना सोवइं अंटारी जगावा सखी