भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरगद बाबा / सावित्री परमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरगद बाबा कितने अच्छे
करते प्यार इन्हें सब बच्चे।

चाहे कितनी धूप पड़े
चाहे जितनी शीत पड़े,
हँसते रहते हरदम चाहे
आँधी आए, धूल उड़े।

कहते किस्से सच्चे-सच्चे,
बरगद बाबा कितने अच्छे।

बड़ी निराली इनकी माया
लंबी-चौड़ी इनकी काया,
आता जो भी इनके द्वारे
हर प्राणी को मिलती छाया।

इनके लिए सभी हैं अच्छे,
करते प्यार इन्हें सब बच्चे।