भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरबाद न कर बेकस का चमन... / अमजद हैदराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरबाद न कर बेकस का चमन, बेदर्द ख़िज़ाँ से कौन कहे।
ताराज़[1] न कर मेरा खिरमन[2], उस बर्के़-तपाँ[3] से कौन कहें॥

मुझ ख़स्ता जिगर की जान न ले, यह कौन अजल को[4] समझाएं।
कुछ देर ठहर जा ऐ दरिया! दरिया-ए-रवाँ से कौन कहें॥

सीने में बहुत ग़म है पिन्हा और दिल में हज़ारों हैं अरमाँ।
इस क़हरे-मुजस्सिम [5] के आगे, हाल अपना ज़बाँ से कौन कहे॥

हरचंद हमारी हालत पर रहम आता है हर इक को लेकिन--
कौन आपको आफ़त में डालें, उस आफ़ते-जाँ से कौन कहे॥

क़ासिद के बयाँ का ऐ ‘अमजद’ क्योंकर हो असर उनके दिल पर
जिस दर्द से तुम ख़ुद कहते हो, उस तर्ज़ेबयाँ से कौन कहे॥


शब्दार्थ
  1. नष्ट
  2. खलिहान
  3. कौंधती हुई बिजली
  4. मृत्यु को
  5. साक्षात मौत