भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरसा बरस रही चहूँ ओर / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरसा बरस रही चहूँ ओर |
घन गरजत हरषत सखी जियरा, नाचत बन में मोर ||
पीहूं-पीहूं रटत पपैया प्यारा, हँसत-हँसावत श्याम हमारा |
श्यामा परम मनोहर मनहर, प्रीतम नंद किशोर ||
दादुर धुनि सुनी-सुनी सुख उपजत, कोयल मधुर स्वरन ते कूंकत |
राधा का राजा कृष्णा प्यारा, लेवे मन चित चोर ||
बिजरी चमकत हे गिरधारी, बीती पल-पल रैना सारी |
तू मन मोहन ईश्वर मेरा, मैं तेरी गणगौर ||
गोपीनाथ राधिका प्यारी, सुखी संत महिमा लखी भारी |
सदा सुखी शिवदीन भजन कर, होकर प्रेम विभोर ||