भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरस्या बरस्या रे झंडू मूसलधार / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरस्या बरस्या रे झंडू मूसलधार लाल पड़ौसिन का घर ढह पड़ा।
चाल्या चाल्या रे झंडू सिर धर खाट लाल पड़ौसिन के सिर गूदड़ा।
खोलो खोलो रै गौरी म्हारी बजर किवाड़ सांकल खोलो लोहसार की
म्हारी भीजे री गौरी पंचरंग पाग लाल पड़ौसिन के सिर चूंदड़ी
दे दो रे छोरे बुलदां का पाल लास लसौली झंडू पड़ रहे जी