भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बर्क़ मेरा आशयाँ कब का जला कर / 'ज़ौक़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बर्क़ मेरा आशयाँ कब का जला कर ले गई
कुछ जो ख़ाकस्तर बचा आँधी उड़ा कर ले गई

उस के क़दमों तक न बे-ताबी बढ़ा कर ले गई
हाए दो पलटे दिए और फिर हटा कर ले गई

ना-तवानी हम को हाथों हाथ उठा कर ले गई
चूँटी से चूँटी दाना छुड़ा कर ले गई

सुब्ह-ए-रुख़ से कौन शाम-ए-ज़ुल्फ़ में जाता था आह
ऐ दिल-ए-शामत-ज़दा शामत लगा कर ले गई

ख़ून से फ़रहाद के रंगीं हुआ दामान-ए-कोह
क्यूँ न मौज-ए-शीर ये धब्बा छुड़ा कर ले गई

तुम ने तो छोड़ा ही था ऐ हम-रहान-ए-क़ाफ़िला
लेकिन आवाज़-ए-जरस हम को जगा कर ले गई

नोक-ए-मिज़गाँ जब हुई सीना-फ़गारों से दो-चार
पारा-हा-ए-दिल से गुल-दस्ता बना कर ले गई

देखी कुछ दिल की कशिश लैला के नाक़े को तेरे
सू-ए-मजनूँ आख़िरश रस्ता भुला कर ले गई

वाह ऐ सोज़-ए-दरूँ कूचे में उस के बर्क़-ए-आह
रात हम को हर क़दम मशअल दिखा कर ले गई

वो गए घर ग़ैर के और याँ हमें दम भर के बाद
बद-गुमानी उन के घर सू घर फिरा कर ले गई

जो शहीद-ए-नाज़ कूचे में तुम्हारे था पड़ा
क्या कहूँ तक़दीर उसे क्यूँकर उठा कर ले गई

दश्त-ए-वहशत में बगूला था के दीवाना तेरा
रूह-ए-मजनूँ बहर-ए-इस्तिक़बाल आ कर ले गई

आग में है कौन गिर पड़ता मगर परवाने को
आतिश-ए-सोज़-ए-मोहब्बत थी जला कर ले गई

ऐ परी पहलू से मेरे क्या कहूँ तेरी निगाह
दिल उड़ा कर ले गई या पर लगा कर ले गई

'ज़ौक़' मर जाने का तो अपने कोई मौक़ा न था
कू-ए-जानाँ में अजल ना-हक़ लगा कर ले गई