भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बर्फीली सर्दी का पहला दिन / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह भिंची-भिंची आँखों से
खिड़कियों के पर्दे हटाते हुए
बाहर देख
अवाक् रह गई !

शिल्पकार ने
पूरे बगीचे में
पारदर्शी काँच के वृक्ष
औ' झाड़ियां जड़ दी थीं !

रिमझिम फुहार
सारी रात गाती रही
तापमान गिरने से
बर्फ बन गुनगुनाती रही !

तभी शायद
पाइन , टीक औ' पाम के
वृक्षों को शिल्पी घड़ता रहा
रूप नया देता रहा.

ऐसा लगा
काँच बगीचा है मेरा
एक -एक पत्ती
मैग्नोलिया की एक -एक पंखुड़ी
कुशल शिल्पी की कृतियाँ हैं !

काँच की घास
निहार तो सकतीं हूँ .....
पाँव नहीं रख सकती .......