भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बर्फ के परवत पिघलते जाऍंगे / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बर्फ के परवत पिघलते जाऍंगे ।
बात कीजे हल निकलते जाऍंगे ।

धूप के लिक्‍खे को जल्‍दी बॉंचिये ।
बारिशों में हर्फ घुलते जाऍंगे ।

अवसरों में मुश्किलें मत देखिये ।
हाथ से अवसर निकलते जाऍंगे ।

मुश्किलों में देखिये अवसर नये ।
रास्‍ते खुद आप खुलते जाऍंगे ।

सब हवा कर कान देते हैं 'विजय' ।
हम हवा पर ऑंख रखते जाऍंगे ।