भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बसंत-2 / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बसत विश्व मोहनी रंग सिंगार सै जैनेॅ छै।
पीरोॅ-पीरोॅ सरसौं के चुनरी ओढ़नेॅ छै॥
गोरोॅ-गोरोॅ बाँही बाजूवाक शोभै छै।
सोलहोॅ सिंगार लै धरती सजलौ छै॥
दखनाहा महंत आठो आंग सहलाय छै।
सिहरै सौसेॅ देह मोॅन सुगबुगाय छै॥
बसंत नेॅ बहकैलकै हमरोॅ चांन।
खेल-खेल मेॅ चलावै छै नयन बाण॥
नील गगन मेॅ फैललोॅ ई चांन।
जरनतांहा ग्रीष्म नेॅ छिनतै सबरोॅ मुस्कान॥