भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बसंत में / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिर से पैर तक

फूल-फूल हो गई उसकी देह,

नाचते-नाचते हवा का

बसंती नाच ।


हर्ष का ढिंढोरा

पीटते-पीटते, हरहराते रहे

काल के कगार पर खड़े पेड़ ।


तरंगित,

उफनाती-गाती रही

धूप में धुपाई नदी

काव्यातुर भाव से ।


('पंख और पतवार' नामक काव्य-संग्रह से)