भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस्तियों में इक सदा-ए-बे-सदा / अमजद इस्लाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बस्तियों में इक सदा-ए-बे-सदा रह जाएगी
बाम ओ दर पे नक़्श तहरीर-ए-हवा रह जाएगी

आँसुओं का रिज़्क होंगी बे-नतीजा चाहतें
ख़ुश्क होंटों पर लरज़ती इक दुआ रह जाएगी

रू-ब-रू मंज़र न हों तो आईने किस काम के
हम नहीं होंगे तो दुनिया गर्द-ए-पा रह जाएगी

ख़्वाब के नश्शे में झुकती जाएगी चश्म-ए-कमर
रात की आँखों में फैली इल्तिजा रह जाएगी

बे-समर पेड़ों को चूमेंगे सबा के सब्ज़ लब
देख लेना ये ख़िज़ाँ बे-दस्त-ओ-पा रह जाएगी