भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस इतना दिल चाहे मेरा / सपना मांगलिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बस इतना दिल चाहे मेरा
आसमान के सारे नज़ारे, धरती पर ले आऊँ मैं
जहाँ भी गिरें आँखों से मोती, झोली में भर लाऊँ मैं
बस इतना दिल चाहे मेरा
दूर करूँ दुःख: सबके दिलों से, खुशियाँ अपनी दे आऊँ मैं
कूड़ा बीनते नन्हे हाथों को, पोथी बस्ता पकडाऊँ मैं
रहे ना खाली पेट कोई भी, सबकी भूख मिटाऊँ मैं
बस इतना दिल चाहे मेरा
बीज प्रेम का ह्रदय-धरा पर, सबकी खूब उगाऊँ मैं
सहमा सिमटा भोला सा जीवन, उसे निर्भय आज बनाऊँ मैं
उसे उसका हक़ दिलाऊँ मैं
बस इतना दिल चाहे मेरा