भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस एक और / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बस एक आखिरी और
सिगरेट का कश बस एक और
जाम, बस एक और
तीर्थस्थान, एक बार और हो आऊँ
गंगा स्नान, फिर से शुद्ध हो जाऊँ
दुआ, अगर एक और कबूल हो जाए।

और और में बीती जा रही है जिंदगी
औरों की तरह
हर पल, हर क्षण कम होती साँसें
यह अहसास दिलाने लगी हैं
यह और का पागलपन
कभी तो खत्म होगा
निश्चित ही
फिर शायद निश्चय से हो जाए
मेरी मुलाकात।