भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस की बात / अंशु हर्ष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हवा कि तेज़ सरसराहट से
शाख से अलग हुआ पत्ता
इठलाता, झूमता
घूमता हुआ इधर उधर
बह चला नदी के पानी में
तैरता हुआ ...बोला
ओह मुझे तैरना भी आता है ...
यु ही टंगा था इतने दिनों से?
शाम ढले शाख ने आवाज़ दी ...
लौट आओ ...
पर पत्ता हुआ उदास
बोला नहीं रही अब ये
मेरे बस की बात