भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस जीने की कला नहीं आई / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब कुछ आया
बस जीने की कला नहीं आई

चाहा,
सब हों सुखी,
भले दुख हो जाए अपना
मगर देखते रहे हमेशा
सपनों में सपना

खुली आँख भी
सपने लेकिन भुला नहीं पाई

लगता था
इंसान हमेशा
अच्छा ही होता
ऐसा होता तो शायद
कितना अच्छा होता

संशय का पर
ज़हर जिंदगी पिला नहीं पाई

हम तो
जीवन में
ऐसे ही बेढंगे से हैं
भीतर बाहर मटमैले
रँग में रंगे से हैं

हुशियारी की कला,
हमें तो भला नहीं आई