भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस बातें ही बातें करते / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़े अजीब मुझे तो लगते
एक्टर अमिताभ दादा जी।
कम्प्यूटर को समझ आदमी
बातें करते हैं दादा जी।

कौन बनेगा करोड़पति में
बस बातें ही बातें करते
’कम्प्यूटर जी करो लॉक तुम’
बड़े मजे से उससे कहते।

देख-देख मेंने भी उस दिन
कम्प्यूटर को वही कहा था।
कहां किया कुछ कम्प्यूटर ने
जैसा था बस वही रहा था।

अरे समझ में आया मुझको
क्या जादू तुम दादा करते?
खुद चलाकर कम्प्यूटर को
सब को बुद्धु खूब बनाते!