भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहार आई है फिर चमन में नसीम / 'शाएर' क़ज़लबाश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहार आई है फिर चमन में नसीम इठला के चल रही है
हर एक गुंचा चटक रहा है गुलों की रंगत बदल रही है

वो आ गए लो वो जी उठा मैं अदू की उम्मीद-ए-यास ठहरी
अजब तमाशा है दिल-लगी है क़ज़ा खड़ी हाथ मल रही है

बताओ दिल दूँ न दूँ कहो तो अजीब नाज़ुक मआमला है
इधर तो देखो नज़र मिलाओ ये किस की शोख़ी मचल रही है

तड़प रहा हूँ यहाँ मैं तंहा वहाँ अदू से वो हम-बग़ल हैं
किसी के दम पर बनी हुई है किसी की हसरत निकल रही है

घटा वो छाई वो अब्र उठा यही तो है वक़्त मय-कशी का
बुलाओ 'शाएर' को है कहाँ वो शराब शीशे से ढल रही है