भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहुत हुआ-1 / सुधीर मोता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी न कहना
बहुत हुआ

जो जितना हो जाता है
वह सदा मध्य है
कुछ होने से
कुछ होने का
सदा शेष रह जाता है
कभी न होता
बहुत हुआ।