भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहुत हुआ-3 / सुधीर मोता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नमक खींच लाते
सागर से

पृथ्वी से
जल
और मेघ्ह से

सभी व्यतीत होता
और निर्मित
जो सहज टपक पड़ता
नेत्रों से

वह फल तन के
महावृक्ष का
कभी खुटा न
कभी रुका
कभी न सूखा
बहुत हुआ।