भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाँकेमल का बड़ा समोसा / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गरम समोसा, गरम समोसा,
लाओ-लाओ जरा समोसा।
बाँकेमल का बड़ा समोसा,
अहा, प्लेट में पड़ा समोसा।
इसमें थोड़ी चटनी डालो,
खाओ-खाओ, झटपट खा लो।
स्वाद बड़ा है इसमें भाई,
खाते अंकल, खाती ताई।
खाकर कहते-बड़ा करारा,
‘सी-सी’ करता है जग सारा!