भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाँध लिए अँजुरी में / रवीन्द्र भ्रमर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाँध लिए अँजुरी में-
जूही के फूल ।

मधुर गंध,
मन की हर एक गली महक गई,
सुखद परस,
रग-रग में चिनगी-सी दहक गई
रोम-रोम उग आए-
साधों के शूल ।

जोन्हा का जादू
जिन पंखुरियों था फैला,
छू गंदे हाथों-
मैंने उन्हें किया मैला,
हाथ काट लो-
मेरे...
सज़ा है क़बूल ।

आह !
हो गई मुझसे एक बड़ी भूल ।
अँजुरी में बाँध लिए जूही के फूल ।